मधेपुरा: भारत गैस के कर्मियों की लापरवाही से लगी घरों में आग, बाल-बाल बचे परिवार के लोग व बच्चे..

मधेपुरा: जिला मुख्यालय के जयप्रकाश नगर वार्ड नंबर 06 में भारत गैस सिलेंडर लीकेज होने से लगी घरों में आग। आवेदक उमेश यादव के द्वारा बताया गया कि गैस सिलेंडर लीकेज होने के कारण आग लग गई। सिलेंडर में आग लगने के बाद घरों में भी आग पकड़ लिया। पहले तो परिवार के लोगों ने आग पर काबू पाना चाहा लेकिन आग की लपट काफी तेज होने के कारण परिवार के लोग व परिवार के बच्चों ने जोर-जोर से आवाज लगाया। काफी चिल्लाहट भरी आवाज आस-पड़ोस के लोगों को सुनाई पड़ने के बाद आस-पड़ोस के लोग व नौजवान दौड़ लगाकर आग को बुझाने आया लेकिन आग में काफी लपट आ गई थी। उसी दरमियान फायर बिग्रेड और प्रशासन को भी फोन के माध्यम से सूचना दिया गया लेकिन काफी समय बीतने के बाद फायर बिग्रेड की छोटी गाड़ी पहुंची जोकि थोड़ी सी पानी आग पर काबू नहीं पा सकी, क्योंकि पानी फायर बिग्रेड की छोटी गाड़ी में खत्म हो गई थी। फायर ब्रिगेड में पानी खत्म हो जाने के कारण और आग की लपट बहुत ज्यादा होने के कारण फायर बिग्रेड के कर्मियों द्वारा आस-पड़ोस के लोगों की मदद से कई मोटरों से पानी भरा गया। उसके कई घंटों बाद आग पर काबू पाया गया। वहीं आवेदक उमेश यादव के द्वारा मेजर योगेंद्र भारत गैस एजेंसी मालिक बब्बू पर आरोप लगाते हुए आवेदन जिला पदाधिकारी व अंचल अधिकारी मधेपुरा को दिया गया। आवेदन के माध्यम से आरोप लगाया गया कि मेजर योगेंद्र भारत गैस एजेंसी मालिक बब्बू को कई बार सूचना दिया गया सिलेंडर लीकेज और आग लगने की। लेकिन गैस एजेंसी से नहीं कोई जांच करने के लिए कर्मी आया न ही एजेंसी मालिक के तरफ से कोई प्रतिक्रिया आया। वहीं आवेदक उमेश यादव के द्वारा भारत गैस एजेंसी हेड क्वार्टर कंप्लेन किया गया उसके बाद इंजीनियर के साथ-साथ एजेंसी से कर्मी घटनास्थल पर पहुंचा। सिलेंडर लीकेजिंग जांच में पाया गया की सही मायने में सिलेंडर पहले से ही लिकेज था और सिलेंडर के अंदर वासर कटने का कारण पता चला। भारत गैस एजेंसी से आए हुए इंजीनियर और गैस एजेंसी से आए हुए कर्मी बस अश्वासन देकर ही चला गया की यह जिम्मेदारी एजेंसी मालिक और उनके कर्मी का बनता है उसके लिए मेजर योगेंद्र गैस एजेंसी मालिक बब्बू को भरपाई करना होगा। लेकिन जांच होने के बाद एजेंसी मालिक का कोई प्रतिक्रिया नहीं आया है। वहीं आवेदक उमेश यादव का यह भी आरोप है कि अंचलाधिकारी मधेपुरा के यहां शिकायत आवेदन देने के बाद भी और कई दिन जाकर अंचल कार्यालय में कहने की बाद अंचलाधिकारी के यहां से ना कोई जांच, ना कोई प्रतिक्रिया आया है।

मधेपुरा से आरजू अंसारी की रिपोर्ट

व्हाट्सप्प आइकान को दबा कर इस खबर को शेयर जरूर करें

विज्ञापन बॉक्स (विज्ञापन देने के लिए संपर्क करें)


स्वतंत्र और सच्ची पत्रकारिता के लिए ज़रूरी है कि वो कॉरपोरेट और राजनैतिक नियंत्रण से मुक्त हो। ऐसा तभी संभव है जब जनता आगे आए और सहयोग करे
Donate Now
               
हमारे  नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट , और सभी खबरें डाउनलोड करें
डाउनलोड करें

जवाब जरूर दे 

क्या आप मानते हैं कि कुछ संगठन अपने फायदे के लिए बंद आयोजित कर देश का नुकसान करते हैं?

View Results

Loading ... Loading ...


Related Articles

Back to top button
Close
Website Design By Bootalpha.com +91 84482 65129