SUPAUL:प्रखंड विकास पदाधिकारी की पैसा लेनदेन का वायरल वीडियो में पुर्व मुखिया पति ने कहा ऐसा कुछ भी नहीं है, उनके पति से घरेलू संबंध है, पूर्व से ही लेनदेन चलता है। उसी बीच मौका देख किसी ने वीडियो बना लिया, जो सरासर गलत है

SUPAUL: जिले के त्रिवेणीगंज से बड़ी खबर सामने आ रही है जहां त्रिवेणीगंज प्रखंड विकास पदाधिकारी आशा कुमारी गुड़िया पंचायत के पूर्व मुखिया पति शिव नारायण यादव के बीच पैसे लेनदेन का वीडियो सोशल मीडिया पर तेजी से वायरल हो रहा है, जानकारी के मुताबिक यह वीडियो काफी दिनों पहले का बताया जा रहा है. वायरल विडिओ की हम पुष्टि नही करते है।पुछे जाने पर बीडीओ आशा कुमारी ने बताया की पूर्व मुखिया पति से उनके घरेलू सम्बंध है बकाये की राशि हमे दे रहे जिसे किसी ने कैमरे में रिकॉर्ड कर लिए यह मुझे फंसाने के षड्यंत्र का हिस्सा है जो मेरी छवि धूमिल करना चाहते है। उन्होंने कहा मेरे पति से मुखिया का परिवारिक संबंध रहा है, हमको त्रिवेणीगंज पदस्थापित से पहले मुखिया जी ने मेरे पति से पैसा लिए थे, वही पैसा हमको वापस कर दिए. उस समय चेंबर में बहुत लोग मौजूद थे, कुछ तथाकथित लोग के द्वारा वीडियो बना लिया गया, उसके एक साल बाद मुझे तथा कथित लोग महिला पदाधिकारी होने के नाते लगातार प्रताड़ित करता रहा है, आठ लाख रूपये की मांग करने लगा नहीं देने पर वीडियो वायरल कर देंगे धमकी देने लगा, वही लोग कल मेरे चेंबर आये हुए थे, कहा आठ लाख रूपये दो नहीं देने के उपरांत वीडियो वायरल कर देने की धमकी दिया ,जिस बात की जानकारी हमने अपने पति को भी दिया , ऑफिशियल कार्यों को लेकर हम इस बात को उच्च अधिकारी को नहीं बोल सके, आज वही वीडियो को तथाकथित लोग वायरल कर दिया, ऐसे व्यक्तियों पर कार्रवाई करने की बात कही है, उन्होंने कहा कि विडियो को लेकर मुखिया पति द्वारा शपथ पत्र बना कर दिया गया है।जिसमे रिश्वत की बात को सिरे से नकारा गया है।पूर्व मुखिया पति ने कहा घूस लेने का कोई बात नहीं है इनके पति का बाकी पैसा था वही पैसा दे रहे थे तब तक में किसी ने वीडियो बना लिया।इस बात को लेकर हमने पुर्व मुखिया शिव नारायण यादव से बात की मुखिया ने यह आरोप को खारिज करते हुए कहा मेरा और प्रखंड विकास पदाधिकारी पति की परिवारिक संबंध है,और वर्षों से लेनदेन चल रहा है, इसमें कहीं घूस लेने की बात नहीं है, अब सवाल उठता है. जो व्यक्ति इनका वीडियो बनाया था ,वह व्यक्ति उस समय क्यों नहीं वीडियो को वायरल किया .आखिर इस घटनाओं को करीब दो साल बीतने जा रहा है, उस समय क्यों नही वीडियो वायरल किया गया, यह भी बहुत बड़ा सवाल है, इतना नहीं त्रिवेणीगंज ब्लोक ब्लैकमेल करने इतिहास रहा है, यहां कुछ वैसे भी तथाकथित लोग है. जो  मौका देख  वीडियो बनाते हैं. फिर उन्हें उनसे मोटी रकम उगाही करते है, इससे पूर्व भी कई खबर प्रकाशित किए गए थे लेकिन इस पर पदाधिकारी की ओर से कोई संज्ञान नहीं लिया गया था.अब देखना है कि पूरे मामले में ऊंट किस करवट बैठता है।बीडीओ को ब्लैकमेल करने वाले लोगो पर करवाई होती है., या फिर बीडीओ साहिबा इस लपेटे में आएगी इस बात पर सबकी नजर रहेगी।फिलहाल विडियो वायरल होने के पश्चात डीएम द्वारा जांच कमिटी के गठन कर इसकी सत्यता की जांच करने की बात भी सामने आ रही है.

             सुपौल से गजेंद्र यादव की रिपोर्ट

व्हाट्सप्प आइकान को दबा कर इस खबर को शेयर जरूर करें

विज्ञापन बॉक्स (विज्ञापन देने के लिए संपर्क करें)


स्वतंत्र और सच्ची पत्रकारिता के लिए ज़रूरी है कि वो कॉरपोरेट और राजनैतिक नियंत्रण से मुक्त हो। ऐसा तभी संभव है जब जनता आगे आए और सहयोग करे
Donate Now
               
हमारे  नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट , और सभी खबरें डाउनलोड करें
डाउनलोड करें

जवाब जरूर दे 

क्या आप मानते हैं कि कुछ संगठन अपने फायदे के लिए बंद आयोजित कर देश का नुकसान करते हैं?

View Results

Loading ... Loading ...


Related Articles

Back to top button
Close
Website Design By Bootalpha.com +91 84482 65129