ललितग्राम और नरपतगंज के बीच किया गया सीआरएस निरक्षण, इस ट्रैक पर जल्द दौड़ेगी ट्रैन।

SUPAUL:पूर्व मध्य रेलवे के ललितग्राम व नरपतगंज के बीच नवनिर्मित बड़ी रेल लाइन का गुरुवार को सीआरएस सेफ्टी जांच किया गया। इस दौरान रेलवे सुरक्षा आयोग शुभमय मित्रा ने 12.7 किलोमीटर लंबे इस रेलखंड के गहनता से जांच की। जांच के क्रम में ट्रैक पर बने पुल, रेलवे क्रॉसिंग सहित ट्रैक निर्माण से सन्तुष्ट दिखे।इस बीच सीआरएस स्पेसल ट्रेन सहरसा से चलकर लगभग साढ़े आठ बजे ललितग्राम स्टेशन पहुंची। जहाँ स्टेशन पर वयोवृद्ध समाजसेवी जयकृष्ण गुरूमेता ने सीआरएस शुभमय मित्रा, डीआरएम आलोक अग्रवाल, सीबीएस   एके रॉय को माला पहनाकर स्वागत किया। उसके बाद सीआरएस ने ललितग्राम स्टेशन पर कंट्रोल रूम और रिले रूम का निरक्षण किया। वहीं ट्रैक पर जांच में जाने से पहले सीआरएस ने ट्रॉली पर ही रेलवे के इंजीनियर से रेलखण्ड का डाइग्राम व नक्शा का गहनता से जानकारी लिया। उसके बाद सीआरएस टीम ट्रैक निरक्षन के लिए निकल गई। इस बीच सभी पूल पुलिया का निरक्षण करते करीब साढ़े 10 बजे सीआरएस टीम छातापुर होल्ट स्टेशन पहुंची। जहाँ पर सीआरएस शुभमय मित्रा,डीआरएम आलोक अग्रवाल,सीबीएस एके रॉय ने स्टेशन परिसर में वृक्षारोपण किया। होल्ट पर पांच मिनट तक निरक्षण करने के बाद नरपतगंज निकल गए। जहाँ 1 बजे सीआरएस टीम नरपतगंज स्टेशन पहुंची। वहीं नरपतगंज स्टेशन के गहन निरक्षण के बाद सीआरएस का स्पेसल ट्रैन लगभग 130 की स्पीड से ललितग्राम स्टेशन पहुंची। इस दौरान नरपतगंज से 3:23 में खुलकर 3:35 मिनट में ललितग्राम पहुंची, इस बीच नरपतगंज से ललितग्राम स्टेशन पहुंचने के लिए मात्र 10 मिनट का समय लगा। सीआरएस स्पेसल ट्रैन में पीके गोयल, चीफ इंजीनियर सुशील कुमार, डिप्टी चीफ इंजीनियर संजय कुमार, एएईएन आरके मिश्रा, आईओडब्लू अमितेश कुमार, डीके विभूति सहित कई वरीय अधिकारी शामिल थे। उधर साढ़े आठ बजे स्पेसल ट्रैन ललितग्राम पहुंचते ही ललितग्राम, छातापुर व नरपतगंज स्टेशन पर लोगो की भीड़ उमड़ पड़ी। मौके पर डीआरएम आलोक अग्रवाल ने बताया की सीआरएस निरक्षण कार्य सफलता पूर्वक किया गया है। जिसमें कुछ जगहों पर दिशा निर्देश भी दिया गया है।उन्होंने बताया कि सफल जांच के बाद सारी प्रक्रिया दुरुस्त करने के बाद एक डेढ़ महीनों में ट्रेन का परिचालन शुरू किया जाएगा। वहीं ललितग्राम तक ट्रेनों की संख्या बढ़ाने के संबंध में पूछने पर उन्होंने बताया कि इसके बारे में बात चल रही है। जैसे ही सक्षम अधिकारी का आदेश आएगा ट्रैनों की संख्या बढ़ा दिया जाएगा। साथ ही सहरसा से ललितग्राम तक विधुतीकरण का एक वर्ष में पूरा कर लिया जाएगा। इसके लिए सहरसा से सरायगढ़ तक विधुतीकरण कार्य युद्धस्तर पर किया जा रहा है।इधर, सीआरएस निरक्षण के दौरान सर्वदलीय संघर्ष समिति के अध्यक्ष मोहन प्रसाद रस्तोगी ने प्रतापगंज भीमनगर, बीरपुर को रेल हेड से जोड़ने के लिए ललितग्राम स्टेशन पर डीआरएम को ज्ञापन सौंपा। उन्होंने बताया कि ब्रिटिश काल सन 1910 में अंतरराष्ट्रीय सीमा होते हुए ट्रेन चलती थी। लेकिन 1934 में आई विनाशकारी भूकंप में वो ध्वस्त हो गया। जिसके बाद 57 किलोमीटर का इस रेलखण्ड पर ट्रेन का परिचालन नहीं हुआ। बताया कि अंतरराष्ट्रीय सीमा होने के कारण इस क्षेत्र को रेलवे से जोड़ने पर विकाश की आशातीत संभावनाएं है। मौके पर प्रताप कुमार सिन्हा, रमेश प्रसाद गुप्ता, श्रीलाल गोठिया, मौसम खेरवाड़ जयकृष्ण गुरूमेता आदि मौजूद थे।

बलवा बाजार से सोनू आलम की रिपोर्ट

व्हाट्सप्प आइकान को दबा कर इस खबर को शेयर जरूर करें

विज्ञापन बॉक्स (विज्ञापन देने के लिए संपर्क करें)


स्वतंत्र और सच्ची पत्रकारिता के लिए ज़रूरी है कि वो कॉरपोरेट और राजनैतिक नियंत्रण से मुक्त हो। ऐसा तभी संभव है जब जनता आगे आए और सहयोग करे
Donate Now
               
हमारे  नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट , और सभी खबरें डाउनलोड करें
डाउनलोड करें

जवाब जरूर दे 

क्या आप मानते हैं कि कुछ संगठन अपने फायदे के लिए बंद आयोजित कर देश का नुकसान करते हैं?

View Results

Loading ... Loading ...


Related Articles

Back to top button
Close
Website Design By Bootalpha.com +91 84482 65129