एसडीओ की आदेश को ताख पर रखते हुए अंचलाधिकारी छातापुर कर रहे है मनमानी,

SUPAUL:  जिले की  इन्दर पुर वार्ड नम्बर 11 छातापुर प्रखंड के मोहम्मद आलम पिता मोहम्मद मुस्लिम ने काफी दिनों जमावन्दी 46 नाजिर रशीद संख्या 115038 खाता 94 खेसरा 183 रकवा 04 डिसमिल की जमीन आज से लगभग में और मेरे पिता 60 वर्षो से घर बना कर निवास करता आ रहा हु जब अंचल अमीन द्वारा 22 /03/ 03 उन्होंने अपने निष्पादन में आवेदक मोहम्मद आलम को अपने घर से पश्चिम भाग खाली जमीन जो बाड़ी एवं निकाश के रूप में था पर प्रतिवादी मोहम्मद इब्राहिम ने रकवा 1780 वर्ग कड़ी अर्थात पोने दो डिसमिल भाग पर अपने दमाद का घर बनाकर आवेदक मोहम्मद आलम को बे दखल करवा दिया है यह कि आवेदक को 2220 वर्ग कड़ी अर्थात सवा दो डिसमिल में भी अपने पुराने घर को पुनःबनाने से प्रतिवादी बाधा डाल रहा है फिर अनुमंडल पदधिकारी को एक आवेदन मोहम्मद आलम के द्वारा दिया गया आवेदन पत्र में वासगीत पुनरीक्षण वाद संख्या 19/2014 मोहम्मद इब्राहिम बनाम आलम में समाहर्ता सुपौल का पारित आदेश की प्रति दिया गया था समाहर्ता सुपौल के आदेश में लिखा है कि वर्ष 1989 से पूर्व निर्गत वासगीत पर्चा को धारा 21 के अंतर्गत कार्यवाही नहीं कि जा सकती है मोहम्मद इब्राहीम का आवेदन खारिज कर दिया गया भूमि सुधार उप समहर्ता त्रिवेणीगंज सुपौल के ज्ञापाक 157-2विधि दिनांक 13/02/2015 को स्थल निरक्षण किया जिसमे ग्रामीणों द्वारा कहा गया कि आलम के पिता लगभग 60 वर्षो से रह रहा है और मोहम्मद इब्राहिम द्वतीय पक्ष जोर जबर दस्ती फुस का घर बना लिया है वही अनुमंडल ने लिखा कि वासगीत पर्चा धारी मोहम्मद आलम पिता मोहम्मद मुस्लिम को पर्चा वाली भूमि पर मरम्मत कराने हेतु अपने स्तर से प्रसासनिक सहयोग करे वही दुतीय पक्ष मोहम्मद इब्राहिम का कहना है कि मोहम्मद आलम पास पर्चा धारी नही है यही कह कर वह बात को टोल मटोल कर रहा है,

छातापुर से नदीम आलम की रिपोर्ट

व्हाट्सप्प आइकान को दबा कर इस खबर को शेयर जरूर करें

विज्ञापन बॉक्स (विज्ञापन देने के लिए संपर्क करें)


स्वतंत्र और सच्ची पत्रकारिता के लिए ज़रूरी है कि वो कॉरपोरेट और राजनैतिक नियंत्रण से मुक्त हो। ऐसा तभी संभव है जब जनता आगे आए और सहयोग करे
Donate Now
               
हमारे  नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट , और सभी खबरें डाउनलोड करें
डाउनलोड करें

जवाब जरूर दे 

क्या आप मानते हैं कि कुछ संगठन अपने फायदे के लिए बंद आयोजित कर देश का नुकसान करते हैं?

View Results

Loading ... Loading ...


Related Articles

Back to top button
Close
Website Design By Bootalpha.com +91 84482 65129