सुपौल में इंस्पेक्टर साहब की शिथिलता,पुलिस केस में भी 12 दिन बाद भी नहीं हुई केस की सुपरविजन पूर्ण।

सुपौल: पुलिस केस मामले में पुलिस इंस्पेक्टर सत्यनारायण राय केस सुपरविजन में शिथिलता कांड संख्या दर्ज किए हुए करीब 12 रोज बीत जाने के बाद भी केस सुपवीजन पुर्ण नहीं हुई .ताजा मामला जदिया थाना से आ रही हैं. जहां थाने में पदस्थापित स0अ0नि0 सुदर्शन कुमार यादव ने खुद थाने में आवेदन देकर आरोप लगाया कि बीते 9 तारीख को गस्ती के दौरान सुचना मिली कि थाना क्षेत्र के दतुआ चौक पर एक ट्रक जिसका रजिस्ट्रेशन नम्बर आर जे 02GB2410 को घेर कर रोके हुए है. सड़कों पर कुछ वाहन अव्यवस्थित तरीके से लगी हुई है यातायात मार्क पुर्ण रूप से बंधित थे जिसका सुचना मिली सुचना मिलते ही दल बल के साथ स्थल पर पहुंचे वहा स्थानीय राहगीरों की भीड़ जमा जिसमे कुछ असमाजिक तत्व के व्यक्ति हो हल्ला कर रहे था तथा उपद्रव मचा रहे व्यक्ति मोहम्मद सुवेब खां, जुबेर खां दोनों पिता इदरीश खां , प्रकाश पाण्डेय पिता बिमल पाण्डेय, तीनों साकिन मानगंज पश्चिम वार्ड नम्बर 7 की है उसमान खां पिता अजीज खां साकिन मानगंज पश्चिम वार्ड नम्बर 8 जहागीर आलम पिता बदरूस आलम साकिन मानगंज पश्चिम ,आशीष कुमार यादव पिता गुलाब यादव कोरियापट्टी निवासी पहचान हुई है उनके साथ पच्चीस अन्य अग्यात लोग थे। हमने सभी अपना परिचय देते हुए कहा कि आप लोग के द्वारा इस प्रकार सड़क मार्ग को बाधित नहीं करें यथा शंका के आधार पर रोके गए ट्रक को थाना ले जाने दीजिए. ट्रक पर लोड चावल का जांच कराया जाएगा तथा विधिवत कार्रवाई की जाएगी परंतु वह लोग मानने को तैयार नहीं हुए उस सभी व्यक्तियों को बार-बार समझाया गया कि नाजायज मजमा बनाकर जोर-जबर्दस्ती यातायात के मार्ग को अवरुद्ध करना जबरन रोककर बाधा उत्पन्न करना विधि विरुद्ध है. इसलिए नाजायज मजमा नहीं लगावे सड़क मार्ग में बाधा उत्पन्न नहीं करें राहगीरों को एवं अन्य वाहन चालकों के साथ दुर्व्यवहार न करें ट्रक को थाना ले जाने में बाधा उत्पन्न ना करें परंतु वे लोग कोई भी बात नहीं मान रहे थे और वे लोग यातायात को बाधित कर उपद्रव मचाते रहे ऐसा करने से मना करने एवं समझाने पर वे लोग उग्र होकर घेर कर हम लोगों के साथ भी गाली गलौज करते हुए धक्का-मुक्की करने लगे और धमकाने लगे कि यह लोग दहशत फैलाने के लिए उपद्रव मचाते रहे करीब 3 घंटा बाद काफी मशक्कत से ट्रक जिस पर रजिस्ट्रेशन नंबर अंकित है उसको सुरक्षा पर कब्जे में लिया गया काफी मशक्कत के बाद समझा-बुझाकर यातायात को बाधित रखें जिससे आमजन को काफी परेशानी हुई तथा सरकारी काम में बाधा उत्पन्न हुआ है सभी दोषियों के नाम पता का सत्यापन तथा ठीक ठाक पता लगाने में रहने के कारण विलंब से आवेदन दे रहा उक्त दिए गए आवेदन के आधार पर जदिया थाना कांड संख्या 287-2022 दिनांक 10- 11- 2022 धारा 147 /149 /342 353/ 188/ 504/ 506 /अंकित किया गया है. आवेदन के आलोक में जदिया थाना प्रभारी राजेश कुमार चौधरी से पूछा गया तो उन्होंने बताया कि वीडियो फुटेज की साक्ष्य के अनुसार प्राथमिकी दर्ज की गई है. केस सुपरविजन नहीं हुई है सुपरविजन रिपोर्ट आने के बाद कार्रवाई की जाएगी.इस बाबत पुलिस इंस्पेक्टर सत्यनारायण राय से पूछा गया तो उन्होंने बताया कि मामले को अपने अस्तर से जांच की जा रही है.अब इस घटना को किस तरह से इंस्पेक्टर साहब इस केस को केसे जांच करते हैं और कब तक जांच पूरी करते हैं इस पर सब की नजर टिकी हुई है.अब देखना दिलचस्प होगा कि इन पुलिसकर्मी के दिए गए आवेदन में कितना बाते सच्चाई है. और पुलिस इंस्पेक्टर की जांच में कितनी सच्चाई निकल कर सामने आती है. और इस आवेदन के तहत बनाए गए आरोपियों की कब तक गिरफ्तारी हो पाती है.

सुपौल सोनु आलम की रिपोर्ट 

व्हाट्सप्प आइकान को दबा कर इस खबर को शेयर जरूर करें

विज्ञापन बॉक्स (विज्ञापन देने के लिए संपर्क करें)


स्वतंत्र और सच्ची पत्रकारिता के लिए ज़रूरी है कि वो कॉरपोरेट और राजनैतिक नियंत्रण से मुक्त हो। ऐसा तभी संभव है जब जनता आगे आए और सहयोग करे
Donate Now
               
हमारे  नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट , और सभी खबरें डाउनलोड करें
डाउनलोड करें

जवाब जरूर दे 

क्या आप मानते हैं कि कुछ संगठन अपने फायदे के लिए बंद आयोजित कर देश का नुकसान करते हैं?

View Results

Loading ... Loading ...


Related Articles

Back to top button
Close
Website Design By Bootalpha.com +91 84482 65129