सुपौल के छात्र की राजस्थान के कोटा में मौत, जन अधिकार पार्टी के प्रदेश सचिव ने रखी CBI जांच की मांग

सुपौल: राजस्थान के कोटा में जिले के 17 वर्षीय छात्र अंकुश यादव की मौत की खबर के बाद से त्रिवेणीगंज थाना इलाके के बभनगामा पंचायत के लालपट्टी वार्ड 17 स्थित अंकुश के गांव में मातम पसरा है. लोग छात्र अंकुश की मौत मामले में निष्पक्ष रूप से उच्च स्तरीय जांच की मांग कर रहे हैं. आपको बता दें कि राजस्थान के कोटा जिले के तलबंडी मोहल्ले में एक हॉस्टल से बंद कमरे में दो छात्रों का शव मिला था. जिसमें एक शव सुपौल के अंकुश का था. जबकि दूसरा शव गया जिले के छात्र का था. सुपौल के अंकुश यादव के पिता संजीव कुमार बभनगामा पंचायत के पैक्स अध्यक्ष है. जबकि उसकी मां शिक्षिका है. जो त्रिवेणीगंज अनुमंडल के प्राइमरी स्कूल लाल बिहारी खुट कुमायही में पदस्थापित है. घर में अंकुश की मां को परिजनों ने घटना की भनक तक नहीं लगने दी है और उन्हें यह ज्ञात नहीं है कि उसका बेटा अब इस संसार में नहीं है. वह हर रोज की तरह आज भी अपने इकलौते बेटे का फोन और मैसेज का इंतजार कर रही है.जबकि परिवार के अन्य सदस्य उससे छुपकर अपने आंसू रोक नहीं पा रहे हैं.बेटा सुसाइड कर ही नहीं सकता : अंकुश के पिता

इस पूरे मामले को लेकर अंकुश के पिता संजीव कुमार ने बताया कि अंकुश शुरू से ही पढ़ने में बहुत मेधावी था. उसकी प्रारंभिक शिक्षा अररिया जिला के बथनाहा स्थित एक निजी स्कूल में हुई थी. इसके बाद चौथी से सातवीं तक की पढ़ाई अंकुश ने विद्या बिहार पूर्णिया जिले में की थी. उसके बाद राजस्थान के कोटा में रह करकर वह आगे की पढ़ाई कर रहा था. अंकुश को दसवीं की परीक्षा में 90 प्रतिशत से ज्यादा अंक मिला था और आगे नीट की तैयारी में जुटा था. मृतक के पिता का कहना है कि उसके पास रुपए-पैसे की भी कोई तंगी नहीं रही है, उसका बेटा सुसाइड कर ही नहीं सकता है. साजिश के तहत उसकी हत्या की गई है. इस घटना की सीबीआई जांच होनी चाहिए. अंकुश घर पर मिलने पहुंचे जन अधिकार पार्टी के प्रदेश सचिव गुलाबचंद्र यादव ने स्‍वजनों को सांत्‍वना दी। उन्‍होंने राजस्थान सरकार से अंकुश के सुसाइड की सीबीआइ जांच की मांग की। कहा बिहार से अन्य अभिभावक भी अपने बच्चे को पढ़ने राजस्थान के कोटा भेजते हैं, ऐसे में छात्रों की सुरक्षा के प्रति गंभीरता जरूरी है.कहा कि यह आत्महत्या नहीं है. इन लोगों की हत्या हुई है. इसे छुपाने की कोशिश की जा रही है. सरकार से यह मांग करते हैं कि इसकी पूरी जांच कर कॉल डिटेल निकाला जाए. कॉल डिटेल में पूरे मामले का खुलासा हो जाएगा. मौके पर बंसत यादव के अलावे कई गणमान्य व्यक्ति उपस्थित थे।

व्हाट्सप्प आइकान को दबा कर इस खबर को शेयर जरूर करें

विज्ञापन बॉक्स (विज्ञापन देने के लिए संपर्क करें)


स्वतंत्र और सच्ची पत्रकारिता के लिए ज़रूरी है कि वो कॉरपोरेट और राजनैतिक नियंत्रण से मुक्त हो। ऐसा तभी संभव है जब जनता आगे आए और सहयोग करे
Donate Now
               
हमारे  नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट , और सभी खबरें डाउनलोड करें
डाउनलोड करें

जवाब जरूर दे 

क्या आप मानते हैं कि कुछ संगठन अपने फायदे के लिए बंद आयोजित कर देश का नुकसान करते हैं?

View Results

Loading ... Loading ...


Related Articles

Back to top button
Close
Website Design By Bootalpha.com +91 84482 65129