सुपौल में डीएम ने शिक्षा विभाग की अधिकारी के साथ की बैठक, दिए कई दिशा निर्देश,

सुपौल : समाहरणालय सभागार में जिलाधिकारी कौशल कुमार की अध्यक्षता में गुरुवार को शिक्षा विभाग के अधिकारी की साथ बैठक सम्पन्न हुई। बैठक में जिला शिक्षा पदाधिकारी सुपौल द्वारा बताया गया कि समग्र विद्यालय विकास अनुदान हेतु 1666 प्रारंभिक एवं उच्च माध्यमिक विद्यालयों का Drawing Limit तय किया गया था, जिसमें से 1514 प्रारंभिक / उच्च माध्यमिक विद्यालयों द्वारा तय लिमिट के विरूद्ध राशि की निकासी की गयी है। शेष 152 प्रारंभिक एवं उच्च माध्यमिक विद्यालय द्वारा तय लिमिट के विरूद्ध राशि की निकासी तकनीकी कारण वश नहीं हो पाई है। जिलाधिकारी कौशल कुमार द्वारा निदेश दिया गया कि.. तकनीकी समस्या को दूर कर शेष 152 प्रारंभिक / उच्च माध्यमिक विद्यालय की राशि की निकासी करने हेतु आवश्यक कार्रवाई की जाय. डीएम ने सभी प्रखण्ड शिक्षा पदाधिकारी सुपौल को निदेश दिया गया कि समग्र विकास अनुदान की राशि का उपयोग विद्यालय के रंग रोगन एवं शौचालय की स्वच्छता हेतु अनिवार्य रूप से की जाय। जिला कार्यक्रम पदाधिकारी, प्रारंभिक शिक्षा एवं सर्व शिक्षा अभियान, सुपौल द्वारा बाताया गया कि जिले के सभी प्रखण्ड शिक्षा पदाधिकारियों को 171 भवनहीन विद्यालय (भूमि प्राप्त) की सूची भेजी गई है।उसके बाद डीएम ने सभी प्रखण्ड विकास पदाधिकारी, सुपल को निदेश दिया गया कि प्रत्येक पंचायत में भवनहीन विद्यालय जहाँ भूमि प्राप्त है, कम से कम एक नवसृजित प्राथमिक विद्यालय के भवन निर्माण कार्य पंचायत प्रतिनिधि से कराया जाय। साथ ही डीएम कौशल कुमार ने निर्देशित किया गया कि भूमिहीन विद्यालय के लिए भूमि की खोज की जाय ताकि वहाँ भी विद्यालय भवन का निर्माण कार्य उक्त व्यवस्था से कराया जा सके।जिला शिक्षा पदाधिकारी सुपौल द्वारा बताया गया कि जनवरी माह में 01.01.2023 से 19.01.2023 तक विद्यालय शीतलहर के कारण बंद था जिसके फलस्वरूप विद्यालय का निरीक्षण कम हो सका। डीएम ने शिक्षा विभाग के सभी जिला स्तरीय पदाधिकारियों, प्रखण्ड शिक्षा पदाधिकारियों एवं प्रखण्ड साधन सेवी (पी०एम०पोषण योजना) द्वारा शत प्रतिशत प्रारंभिक / उच्च माध्यमिक विद्यालयों का निरीक्षण कर गुणवत्तापूर्ण शिक्षा की व्यवस्था करवाने का निदेश दिया गया। जिला कार्यक्रम पदाधिकारी, स्थापना, सुपौल द्वारा बताया गया कि जिले में 40 शिक्षक अप्रशिक्षित हैं, जिन्हें माननीय उच्च न्यायालय एवं विभागीय दिशा निर्देश के आलोक में सेवामुक्त किया जाना है। डीएम द्वारा निदेश दिया गया कि उक्त शिक्षकों को जांचोपरान्त सेवामुक्त करने हेत सक्षम प्राधिकार को अनुशंसा भेजी जाय। उन्होंने जिले में संचालित सभी कस्तूरबा गाँधी बालिका आवासीय विद्यालय विद्यालय का नियमित जाँच करने का निदेश सभी प्रखण्ड शिक्षा पदाधिकारी एवं सभी जिला कार्यक्रम पदाधिकारी को दिया। जिलाधिकारी द्वारा समग्र शिक्षा अभियान अंतर्गत पुराने सभी लंबित योजनाओं को शीघ्र पूर्ण कराने का निदेश जिला कार्यक्रम पदाधिकारी, प्रारंभिक शिक्षा एवं सर्व शिक्षा अभियान, सुपौल, सहायक अभियंता एवं कनीय अभियंता, बिहार शिक्षा परियोजना, सुपौल को दिया गया।

पप्पू आलम सुपौल

व्हाट्सप्प आइकान को दबा कर इस खबर को शेयर जरूर करें

विज्ञापन बॉक्स (विज्ञापन देने के लिए संपर्क करें)


स्वतंत्र और सच्ची पत्रकारिता के लिए ज़रूरी है कि वो कॉरपोरेट और राजनैतिक नियंत्रण से मुक्त हो। ऐसा तभी संभव है जब जनता आगे आए और सहयोग करे
Donate Now
               
हमारे  नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट , और सभी खबरें डाउनलोड करें
डाउनलोड करें

जवाब जरूर दे 

क्या आप मानते हैं कि कुछ संगठन अपने फायदे के लिए बंद आयोजित कर देश का नुकसान करते हैं?

View Results

Loading ... Loading ...


Related Articles

Back to top button
Close
Website Design By Bootalpha.com +91 84482 65129