सुपौल में‌ परीक्ष्यमान् बीडीओ पर भड़के रामदेव यादव, लगाया कई गंभीर आरोप,देखिए रिपोर्ट.

सुपौल : जिले के त्रिवेणीगज प्रखंड लागातार चर्चा में है.यहा के पुर्व ग्रामीण विकास पदाधिकारी शैलेश कैशरी निगरानी विभाग के द्वारा दबोचा गए हैं। डेर साल पुर्व पैसे की लेनदेन का वीडियो वायरल होनो से वर्तमान महिला बीडीओ पर कार्रवाई हुई है .इतना होने के बाद भी यह प्रथा दिन प्रतिदिन बढ़ते ही जा रहा है. वर्तमान परीक्ष्यमान्  बीडीओ निगम झा को प्रतिनियुक्त किया गया है जिसको नियम कानून का भी कोई पता तक नहीं है.बिचोलिया योजना माफिया के संरक्षक में नामित बीडीओ नियंत्रण कानून के विरुद्ध कार्य करते हैं. जिसका खामियाजा आम लोगों को भुगतना पड़ता है न्याय के लिए लोग लगातार जिला अधिकारी के पास परियाद लेकर जा रहा है. लेकिन जिला अधिकारी से लोगों को न्याय तो मिल जाती पर यह नामित बीडीओ को चढावा नही देने से फिर कार्य जैसे तेसे रह जाते है इनकी कार्यशैली शुरुआत जब इस तरह से हैं तो आगे चलकर यह कैसा कार्य करेंगे इससे आप अंदाजा लगा सकते हैं.इन्हें इतने बड़े प्रखंड में परीक्ष्यमान् बीडीओ बनाकर भेजना किसी भी दृष्टिकोण से उचित नहीं है। इनके द्वारा जनता से किस तरह से बात करना गरीब लाचार, विवस जनता को दरकिनार करके दबंग पहुंच पैरवी की घोष दिखाकर जनता से अभद्र व्यवहार कर धमकाने का भी काम करते हैं। इतना ही नहीं लोगों जेल भेजने का भी घमकी देते हैं इनके संबंधित जान पहचान के व्यक्ति मुख्य भूमिका निभाते हैं जन्म मृत्यु जैसे प्रमाण पत्र में अवैध वसूली का खेल करवाते हैं. खास बात तो यह है कि इनके कार्यालय में लोहिया स्वच्छता अभियान पेज टु काफी सुर्खियों में है चयनित पंचायत में स्वच्छता पर्यवेक्षक की चयन जिसकी लाठी उसकी भैंस वाला कहावत की खेल जारी है उसके सामने गाइडलाइन कोई मायने नहीं लगभग चयनित सभी पंचायतों में विवाद फंसे हुए हैं, मिसाल के तौर पर, बघैली, जदिया, पिलुवाहा, महेसुवा, कुछ ऐसे भी ग्राम पंचायत है जिनमें एक नहीं तीन- तीन बार चयन रद्द हुआ है,मजे की बात यह है कि जिला अधिकारी से लोगों को तो न्याय मिल जाती है पर जांच का जिम्मा उसी को सौपा जाता है. जैसे दुध की रखवाली बिल्ली से कराने का फैसला लिया. जिसको लेकर लोगों में काफी आक्रोष देखा जा रहा है .नामित बीडीओ की कार्यशैली को देख शिवसेना के उत्तर बिहार प्रमुख रामदेव यादव भड़क उठे उन्होंने अबिलंम बीडीओ निगम झा पर जिलाधिकारी से कार्रवाई की मांग की है, उन्होंने कहा कि इन सब खेल का मास्टरमाइंड सिर्फ बीडीओ निगम झा है जिनके कारण लोग दर दर भटक रहे हैं अपना समय कार्यालय में नहीं दे पा रहे हैं पूरे दिन ब्लॉक से बाहर रहते हैं जिसके कारण लोग अपने समस्या को लेकर दूर-दूर से आकर‌ निराश होकर शाम को अपने घर चले जाते हैं.रामदेव यादव ने कहा कि अगर इस बीडीओ को त्रिवेणीगंज प्रखंड से हटाते हुए इन पर अभिलंब कार्रवाई की जाए। इतना ही नहीं वही रामदेव यादव ने इस बीडीओ पर कई ऐसे गंभीर आरोप लगाया हैं, इस मामले को लेकर बीडीओ के सरकारी मोबाइल नंबर पर दूरभाष की माध्यम से जानकारी लेना चाहा लेकिन साहब फोन तक रिसिव नही किए।कुछ ऐसे भी साहब की मामले है जो आगे की खबर में उजागर किया जाएगा।

सुपौल से मोहम्मद रहमतुल्ला की रिपोर्ट

व्हाट्सप्प आइकान को दबा कर इस खबर को शेयर जरूर करें

विज्ञापन बॉक्स (विज्ञापन देने के लिए संपर्क करें)


स्वतंत्र और सच्ची पत्रकारिता के लिए ज़रूरी है कि वो कॉरपोरेट और राजनैतिक नियंत्रण से मुक्त हो। ऐसा तभी संभव है जब जनता आगे आए और सहयोग करे
Donate Now
               
हमारे  नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट , और सभी खबरें डाउनलोड करें
डाउनलोड करें

जवाब जरूर दे 

क्या आप मानते हैं कि कुछ संगठन अपने फायदे के लिए बंद आयोजित कर देश का नुकसान करते हैं?

View Results

Loading ... Loading ...


Related Articles

Back to top button
Close
Website Design By Bootalpha.com +91 84482 65129