वैशाली में कल से शुरू होने वाली शारदीय नवरात्रि को लेकर तैयारी जोड़ो शोरों पर और बाजारों में धूम,

वैशाली : जिला में दुर्गा मईया इस बार हाथी पर सवार होकर आ रही हैं। 15 अक्टूबर से नवरात्रि का महापर्व शुरू होने जा रहा हैं। इस दिन विशेष तौर पर माता रानी की विधिवत पूजा-पाठ किया जाता हैं।

वहीं कल से शुरू हो रहे नवरात्रि को लेकर वैशाली जिले के विभिन्न क्षेत्रों जैसे पातेपुर प्रखंड के विभिन्न इलाकों में तैयारी जोड़ो शोरों से चल रही हैं वही दूसरी ओर बाजारों में भी बड़ी धूम देखने को मिल रही हैं।

नवरात्रि नौ दिन अखंड ज्योति जलाने का महत्व हैं। धार्मिक मान्यताओं के अनुसार, नवरात्रि में कलश की स्थापना करना बेहद महत्वपूर्ण और फलदायक माना जाता हैं।

इसलिए आइए जानते हैं नवरात्रि के पहले दिन कलश स्थापना करने की संपूर्ण विधि और मुहूर्त:

कलश स्थापना का मुहूर्त- 15 अक्टूबर, 11:48 मिनिट से दोपहर 12:36 तक

घट स्थापना तिथि- रविवार 15 अक्टूबर,2023

घट स्थापना का मुहूर्त – प्रातः 6:30 मिनट से 8:47 मिनट तक

अभिजीत मुहूर्त- सुबह 11:48 मिनट से दोपहर 12:36 मिनट तक रहेगा।

नवरात्रि में घट स्थापना का बड़ा महत्व हैं । कलश में हल्दी की गांठ, सुपारी,दुर्वा, पांच प्रकार के पत्तों से कलश को सजाया जाता हैं। कलश के नीचे बालू की वेदी बनाकर जौ बोए जाते हैं। इसके साथ ही दुर्गा सप्तशती व दुर्गा चालीसा का पाठ किया जाता हैं।

कलश स्थापना की विधि: सबसे पहले पूजन स्थान की गंगाजल से वशुद्धि करें। अब हल्दी से अस्टदल बना लें।कलश स्थापना के लिए मिट्टी के पात्र में मिट्टी डालकर उसमें जौ के बीज बोएं। अब एक मिट्टी या तांबे के लोटे पर रोली से स्वास्तिक बनाएं। लोटे के ऊपरी हिस्से में मौली बांधे। अब इस लोटे/घट में साफ पानी भरकर उसमें कुछ बूंदे गंगाजल मिलाएं। अब इस कलश के पानी में सिक्का,हल्दी,सुपारी,अक्षत, पान, फूल और इलायची डालें। फिर पांच प्रकार के के पत्ते रखें और कलश को ढंक दें। इसके बाद लाल चुनरी में नारियल लपेट कलश के ऊपर रख दें।

पूजा विधि: सुबह उठकर स्नान करें और मंदिर साफ करें।
माता का गंगाजल से अभिषेक करें।
अक्षत,लाल चंदन,चुनरी और लाल पुष्प अर्पित करें।
सभी देवी-देवताओं का जलाभिषेक कर फूल, फल, और तिलक लगाएं।
कलश स्थापित करें।
प्रसाद के रूप में फल और मिठाई चढ़ाएं।
घर के मंदिर में धूपबत्ती और घी का दीपक जलाएं।
दुर्गा सप्तशती और दुर्गा चालीसा का पाठ करें।
पान के पत्ते पर कपूर और लौंग रख माता की आरती करें। अंत में क्षमा प्रार्थना करें।

वैशाली से संवाददाता मृत्युंजय कुमार की रिपोर्ट 

व्हाट्सप्प आइकान को दबा कर इस खबर को शेयर जरूर करें

विज्ञापन बॉक्स (विज्ञापन देने के लिए संपर्क करें)


स्वतंत्र और सच्ची पत्रकारिता के लिए ज़रूरी है कि वो कॉरपोरेट और राजनैतिक नियंत्रण से मुक्त हो। ऐसा तभी संभव है जब जनता आगे आए और सहयोग करे
Donate Now
               
हमारे  नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट , और सभी खबरें डाउनलोड करें
डाउनलोड करें

जवाब जरूर दे 

क्या आप मानते हैं कि कुछ संगठन अपने फायदे के लिए बंद आयोजित कर देश का नुकसान करते हैं?

View Results

Loading ... Loading ...


Related Articles

Back to top button
Close
Website Design By Bootalpha.com +91 84482 65129