जमाबंदियों के आधार सीडिंग के कार्य में तेजी लाई जाए- प्रभारी डीएम,

वैशाली: प्रभारी डीएम सह अपरसहर्ता वैशाली विनोद कुमार सिंह के द्वारा समाहरणालय सभागार में राजस्व कार्यालय के कार्यों की समीक्षा में उपस्थित अंचलाधिकारियों को जमाबंदियों के आधार सीडिंग के कार्यों में तेजी लाने का निर्देश देते हुए कहा गया कि इसके लिए राजस्व विभाग,बिहार सरकार के द्वारा 31 दिसंबर 2023 तक का समय दिया गया है। उन्होंने कहा कि इस कार्य को प्राथमिकता दिया जाए। आज की समीक्षा में पाया गया कि जिला में अभी 6.4 प्रतिशत जमाबंदियों का आधार सीडिंग किया गया है।जिला में कुल 15 लाख 21 हजार जमाबंदियों में 97783 को आधार से जोड़ दिया गया है।इस संबंध में आज की बैठक में एक-एक राजस्व अधिकारियों से इस कार्य की प्रगति की पूछताछ की गई जिसमें पाया गया कि पटेढ़ी बेलसर 9.3 प्रतिशत, सहदेव बुजुर्ग 8.4 प्रतिशत तथा वैशाली 8.2 प्रतिशत के साथ प्रथम, द्वितीय एवं तृतीय स्थान पर हैं, वहीं चेहराकला 3.6 प्रतिशत, हाजीपुर 3.6 प्रतिशत के साथ सबसे निचले क्रम पर बने हुए हैं। अपर समाहर्ता के द्वारा आधार सीडिंग की धीमी प्रगति पर नाराजगी व्यक्त की गई और सभी राजस्व कर्मचारियों के प्रतिदिन के कार्यों की समीक्षा करने का निर्देश दिया गया। आधार सीडिंग का कार्य राजस्व कर्मचारियों के द्वारा आधार सीडिंग ऐप के माध्यम से किया जाता है।इस ऐप में भू स्वामी का जमाबंदी खोलकर आधार नंबर डालना होता है जिसके लिए लगान रसीद की जरूरत होती है। अपर समाहर्ता ने कहा कि इस माह के अंत तक यह कार्य पूर्ण नहीं करने वाले अंचलों के विरुद्ध कार्रवाई तय है।

बैठक में उपस्थित अंचलाधिकारियों से राजस्व कर्मचारियों की फीडबैक ली गई। राजापाकड़ के अंचलाधिकारी को राजस्व कर्मचारी अमित रंजन को उनके वर्तमान हल्का से हटाकर दूसरे हल्का में प्रतिनियुक्त करने का निर्देश दिया गया एवम सभी डीसीएलआर को भी प्रतिदिन इस कार्य की प्रगति की समीक्षा करने का निर्देश दिया गया।
आज की बैठक में अपर समाहर्ता के द्वारा सभी अंचलों में सरकारी भूमि चिन्हित कर उसकी एंट्री पोर्टल पर करने के कार्य की भी समीक्षा की गई जिसमें सभी अंचलाधिकारियों ने बताया कि सरकारी भूमि चिन्हित कर उसका खाता, खेसरा और रकवा सहित पोर्टल पर एंट्री कर दी गई है और उसका डाटा बेस भी बना लिया गया है। समीक्षा में पाया गया कि जिला में 20302 एकड़ सरकारी भूमि चिन्हित की गई है जिसमें सबसे अधिक राघोपुर में 5604 एकड़, हाजीपुर में 2955 एकड़, बिदुपुर में 2191 एवं पातेपुर में 1824 एकड़ जमीन चिन्हित की गई है।वहीं सबसे कम राजापाकर अंचल में 289, पटेढ़ी बेलसर में 308 तथा चेहराकला में 311 एकड़ जमीन चिन्हित हुई है। अपर समाहर्ता के द्वारा सभी अंचलाधिकारियों से इसका प्रमाण पत्र मांगा गया कि चिन्हित जमीन के अतिरिक्त अब कोई अन्य सरकारी जमीन उनके आंचल में नहीं है।

वैशाली से मृत्युंजय कुमार की रिपोर्ट 

व्हाट्सप्प आइकान को दबा कर इस खबर को शेयर जरूर करें

विज्ञापन बॉक्स (विज्ञापन देने के लिए संपर्क करें)


स्वतंत्र और सच्ची पत्रकारिता के लिए ज़रूरी है कि वो कॉरपोरेट और राजनैतिक नियंत्रण से मुक्त हो। ऐसा तभी संभव है जब जनता आगे आए और सहयोग करे
Donate Now
               
हमारे  नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट , और सभी खबरें डाउनलोड करें
डाउनलोड करें

जवाब जरूर दे 

क्या आप मानते हैं कि कुछ संगठन अपने फायदे के लिए बंद आयोजित कर देश का नुकसान करते हैं?

View Results

Loading ... Loading ...


Related Articles

Back to top button
Close
Website Design By Bootalpha.com +91 84482 65129